Thursday, January 24, 2019

सूरज लूट गया


विहँस रही है रजनी 

तारे चमक रहे 
रातरानी के सानिध्य में  
मौसम गमक रहे 
कलियाँ - कलियाँ झूम रही 
दिशायें मुस्कुराई 
आनंद के रथ पे हो सवार 
नाची पुरवाई 
आगोश में चाँदनी के 
तम दुबक गया 
चंदा की नगरी में  
सूरज लूट गया। 

बहुत दिनों के बाद आख़िरकार मौका निकाल  ही लिया  ..... 

11 comments:

  1. ब्लॉग बुलेटिन टीम की और मेरी ओर से आप सब को राष्ट्रीय बालिका दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं|


    ब्लॉग बुलेटिन की दिनांक 24/01/2019 की बुलेटिन, " 24 जनवरी 2019 - राष्ट्रीय बालिका दिवस - ब्लॉग बुलेटिन “ , में आप की पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
  2. बहुत ख़ूबसूरत अभिव्यक्ति...

    ReplyDelete
  3. वाह बहुत मनमोहन रचना सुंदर सुघड़।

    ReplyDelete
  4. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शनिवार (26-01-2019) को "गणतन्त्र दिवस की शुभकामनाएँ" (चर्चा अंक-3228) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट अक्सर नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    गणतन्त्र दिवस की
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ...।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  5. बहुत अच्छा लेख है Movie4me you share a useful information.

    ReplyDelete
  6. very useful information.movie4me very very nice article

    ReplyDelete