Sunday, June 17, 2012

लहरें और चट्टान

ब्लागर साथियों आइए  आज  आपको मै अपनी नई कल्पना से मिलवाती हूँ ......मुर्गा पुराण से मुक्ति
दिलवाती हूँ .....बताइएगा  कैसी लगी मेरी नई कल्पना एवम रचना .......




नदी की लहरों और चट्टान में
बहुत अच्छी बनती थी .....
बात-बेबात बिना वजह ठनती थी
शायद ये लगाव का ही एक रूप था
लहरें खिलखिलाती थी ,
इतराती -इठलाती थी ...
मालूम नही था चट्टान को
ये उसकी आदत थी ....



अचानक चट्टान के मन में
आ गया अहंकार ....
अहम् ब्रह्म अस्मि के मद में आकर
करती रही  लहरों का तिरस्कार
अपनी धुन में मस्त लहरों को
ये बात समझ में नहीं आई
एक दिन ....जब वो चट्टान के पास आकर खिलखिलाई .
चट्टान ने उसको अपनी आँखें दिखलाई औ ...
निर्दई  भाव से चिल्लाई
राह की तेरे बाधाओं को दूर करती हूँ ....
तुझे क्या पता कि  खुश रहने के लिए मै तेरे
क्या -क्या सहन करती हूँ ???????
सुनकर उसकी बातें
लहरों का दिल टूट गया
जिसे सच्चा साथी समझती थी ?????
उसका साथ उसी पल से छूट गया .............


आज भी उसके जीवन में ....
सच्चे साथी की कमी है
सच्चे साथी की कमी से
उसकी आँखों में नमी है......




सच तो यही है कि ....
सच्चा साथी मिलना किस्मत की बात होती है
उसके अभाव में ही शायद ......
निशा शबनम के आंसू रोती है ...
कोयल  कुहूकती है
पपीहा पीऊ -पीऊ पुकारता है
मोर नाचते समय भी रोता है ........



ऐ ...मन ........दु:खी मत हो ...
ऐसा   बहुतों के साथ होता है .....





छोड़ दोस्ती चट्टान की
लहरें अभी भी खिलखिलाती है ...
चट्टान जहाँ खड़ी थी
वहीं खड़ी है ....
लहरें अनवरत आगे बढती जाती है ...
आगे बढती जाती है .....





19 comments:

  1. this is solid as rock and soft as the feelings....great work Dr.

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल सोमवार (19-06-2012) के चर्चा मंच पर भी होगी!
    सूचनार्थ!

    ReplyDelete
  3. mujhe bahut hi pasand aaya aapki rachna ka bhav

    ReplyDelete
  4. नई कल्पना से मिलना बहुत अच्छा लगा..

    ReplyDelete
  5. Sahi kaha aapne ..'A true friend is very rare to find ...so when you find a good and true ...never change the old one for the new....'!!!

    ReplyDelete
  6. मुर्गादत्त से इतर चट्टान और लहरों की आर्द्र गाथा अच्छी लगी।

    ReplyDelete
  7. wah re lahar. tum aage hi badhte jana...:)

    ReplyDelete
  8. It’s nice to be a friend with you.
    But may give you somethings special.
    You should to try it. It’s free, friends.
    HERE

    ReplyDelete
  9. छोड़ दोस्ती चट्टान की
    लहरें अभी भी खिलखिलाती है ...
    चट्टान जहाँ खड़ी थी
    वहीं खड़ी है ....
    लहरें अनवरत आगे बढती जाती है ...
    आगे बढती जाती है .....
    samay ke saath chalte rahna in laharon se koi seekhe--------bahut bahut hi achhi prastuti aur aapke blog par aakar man khush ho gaya ---
    is prerakprastuti ke liye aabhaar----
    poonam

    ReplyDelete
  10. चट्टान जहाँ खड़ी थी
    वहीं खड़ी है ....
    लहरें अनवरत आगे बढती जाती है ...
    आगे बढती जाती है .....

    गहरे भाव .... सार्थक कविता.

    ReplyDelete
    Replies
    1. समझने वाला चाहिए लहरें तो सिखाती ही हैं !!

      Delete
  11. छोड़ दोस्ती चट्टान की
    लहरें अभी भी खिलखिलाती है ...
    चट्टान जहाँ खड़ी थी
    वहीं खड़ी है ....
    लहरें अनवरत आगे बढती जाती है ...
    आगे बढती जाती है .....

    मेरे मन की बातें आपने कह दी शुक्रिया ...
    खुबसूरत बाते खुबसूरत अंदाज़ में ...

    ReplyDelete
  12. छोड़ दोस्ती चट्टान की
    लहरें अभी भी खिलखिलाती है ...
    चट्टान जहाँ खड़ी थी
    वहीं खड़ी है ....
    लहरें अनवरत आगे बढती जाती है ...
    आगे बढती जाती है .....

    bahut sunder rachna

    ReplyDelete
  13. चट्टान कितना भी अवरोध पैदा करे, लहरें आगे बढ़ती ही जाती हैं।

    ReplyDelete