Friday, November 2, 2012

मेरा चाँद

मन की जमीं पे
खुशियों के फूल खिलते हैं
निशा  -पति जैसे चाँद जब .....
हरेक पत्नी को मिलते हैं .....

नभ में चमकनेवाले ...
.हे करवाचौथ के चाँद
सुहाग पर्व के इस ..
पावन अवसर पर मैं ....
तुम्हे सच्चे दिल से
पूजती हूँ ....
रहूँ सदा सुहागन .......
यही तुमसे वरदान
मांगती हूँ ........



जैसे,...... तेरी चांदनी
निशा के सारे    तम
 हर लेती है,.....
प्यार  के खुमारी से उसके
आँचल को भर देती है ...वैसे ही ....
मेरे चाँद को भी कुछ तरकीब बता दो
प्रिया को खुश रखने के ?????????
सारे ,......     गुप्त रहस्य बतला दो ........



देखा है ...मैंने
जीवन के सफर में
मुझपर आई हर मुसीबत के क्षण में .....
मेरे चाँद की आँखें होती है ...नम ....
मेरा चाँद ..किसी भी मामले में ...
नहीं है तुमसे कम ......



जानती हूँ मैं ...
संगीत में राग होता है
सूरज में आग होता है
और तो और ?
सुन्दरता की मिसाल हो तुम .....पर,.....
तुममें भी दाग होता है तो भला ?
मेरा चाँद बेदाग़ कैसे हो सकता है ?
यही सोच मैंने अपने चाँद की हर ..
अच्छाई और बुराई को तहेदिल से अपनाया है ...
उनके साथ प्यारा सा जहाँ बसाया है ....



तुम्हारी चांदनी की तरह
चमके ..समय के साथ ..
समायोजन और प्यार  हमारा 
करती यही कोशिश
पूरी हो हर सुहागन की
ये तमन्ना ......
देना यही आशीष .....


22 comments:

  1. करवाचौथ की हार्दिक मंगलकामनाओं के साथ आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि-
    आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल शनिवार (03-11-2012) के चर्चा मंच पर भी होगी!

    ReplyDelete
  2. करवाचौथ की हार्दिक मंगलकामना.

    ReplyDelete
  3. बहुत सुंदर ..
    अच्‍छी अभिव्‍यक्ति दी है

    ReplyDelete
  4. सुंदर अभिव्‍यक्ति .............

    ReplyDelete
  5. नभ में चमकनेवाले ...
    .हे करवाचौथ के चाँद
    सुहाग पर्व के इस ..
    पावन अवसर पर मैं ....
    तुम्हे सच्चे दिल से
    पूजती हूँ ....
    रहूँ सदा सुहागन .......
    यही तुमसे वरदान
    मांगती हूँ ........

    हर नारी की कामना को आपने शब्द दे दिए सादर नमन .

    ReplyDelete
  6. बढिया, क्या बात
    बहुत सुंदर

    ReplyDelete
  7. "प्रिया को खुश रखने के ?????????
    सारे ,...... गुप्त रहस्य बतला दो ........"

    आनंद आ गया आपकी कृति पढ़कर !

    ReplyDelete
  8. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  9. निशाजी, सबके दिल की बात को आपने अभिव्यक्ति दे दी ...सुन्दर और प्रभावपूर्ण !

    ReplyDelete
  10. khushi hui mujhe saras jee ....motivation bhi mlla dhanyavad ....

    ReplyDelete
  11. आपकी कामना हर सुहागन की कामना है. आप उनकी प्रतिनिधि हो गई .हार्दिक बधाई.

    ReplyDelete
  12. हुत ही उम्दा भाव आपकी लेखनी से उभरे ...:)

    आप मेरे ब्लॉग पर आये ... आपका बहुत बहुत आभार

    ReplyDelete
  13. बहुत सुन्दर भावपूर्ण अभिव्यक्ति...

    ReplyDelete
  14. शुभकामनायें आपको !

    ReplyDelete
  15. सुन्दर और भावपूर्ण रचना है निशा जी |
    आशा

    ReplyDelete