Saturday, November 2, 2013

फिर भी------

अमावस कि निशा ने कहा ---हो अधीर 
घिरते जंग में जो होते-------- सच्चे वीर 

चाहे हो घनघोर निराशा 
जीतने  की  भी नहीं हो आशा---

फिर भी------

मान लेना मेरा कहना 
दीपक तुम जलते हीं रहना ----

दीपक -----तुम-----जलते-----हीं ----रहना-----

आप सभी को दीपावली कि हार्दिक शुभकामना ----

दीपावली के दीपक से आपको शक्ति मिले ,साहस मिले ,हिम्मत और हौसला मिले। 
                   
                                     वयस्तता कि वजह से आप सभी के ब्लॉग पर नहीं आ सकूँगी जैसे हीं मौका मिलेगा  आउँगी।   धन्यवाद।




22 comments:

  1. सुंदर रचना.

    दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं.

    रामराम.

    ReplyDelete
  2. सुंदर रचना !
    दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएँ !

    ReplyDelete
  3. भावमय रचना ...
    दीपावली के पावन पर्व की बधाई ओर शुभकामनायें ...

    ReplyDelete
  4. बहुत ही बढ़िया
    दीप पर्व आपको सपरिवार शुभ हो !

    ReplyDelete
  5. क्या बात! वाह! फिर आई दीवाली
    आपको दीपावली की ढेर सारी हार्दिक शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर. दीपोत्सव की मंगलकामनाएँ !!
    नई पोस्ट : कुछ भी पास नहीं है
    नई पोस्ट : दीप एक : रंग अनेक

    ReplyDelete
  7. बहुत सुन्दर !
    दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं !
    नई पोस्ट आओ हम दीवाली मनाएं!

    ReplyDelete
  8. सुन्दर प्रस्तुति।
    --
    प्रकाशोत्सव के महापर्व दीपादली की हार्दिक शुभकानाएँ।

    ReplyDelete
  9. आप सभी को सपरिवार दीपावली की बहुत बहुत हार्दिक बधाइयाँ और मंगलकामनायें !!
    ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन आई थोड़ी मीठी - थोड़ी खट्टी दिवाली - ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद शिवम जी ...

      Delete
  10. .आपको दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं.................

    ReplyDelete
  11. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज सोमवार (04-11-2013) महापर्व दीपावली की गुज़ारिश : चर्चामंच 1419 "मयंक का कोना" पर भी होगी!
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    दीपावली के पंचपर्वों की शृंखला में
    अन्नकूट (गोवर्धन-पूजा) की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद शास्त्री जी ....

      Delete
  12. बहुत सुन्दर रचना शुभ भाव सम्प्रेषित करती अपनों सा .

    ReplyDelete
  13. सुंदर !
    दीपोत्सव की शुभकामनायें !!

    ReplyDelete
  14. दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं.

    ReplyDelete
  15. बहुत सुन्दर, शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  16. वाह ... बहुत ही बढिया

    ReplyDelete
  17. दीवाली की शुभकामनाएं.

    ReplyDelete
  18. अति उत्तम एवं प्रशंसनीय . बधाई
    हमारे ब्लॉग्स एवं ई - पत्रिका पर आपका स्वागत है . एक बार विसिट अवश्य करें :
    http://www.swapnilsaundaryaezine.blogspot.in/2013/11/vol-01-issue-03-nov-dec-2013.html

    Website : www.swapnilsaundaryaezine.hpage.com

    Blog : www.swapnilsaundaryaezine.blogspot.com

    ReplyDelete
  19. Respected Dr.Nisha Maharana madam

    Namaste. Dr.Nisha Maharana madam Happy Diwali wishes to you, to your family members and friends.

    Dr.Nisha Maharana madam your poems are very thoughtful and meaningful. Madam beautiful Deepavali poem.

    Dr.Nisha Maharana madam this is my Diwali message "Lamps of India" which i shared in my Heritage of India blog.

    http://indian-heritage-and-culture.blogspot.in/2013/09/lamps-of-india.html

    Dr.Nisha Maharana madam please read my Lamps of India message and give your valuable comments in english language.

    Dr.Nisha Maharana madam i hope you like my blog and join as a member to my Heritage of India blog and also having hope to receive one comment for my message from you in english language.

    ReplyDelete