Thursday, March 13, 2014

ले लो एक विराम


हौले-हौले झूम के कलियाँ  
नववधू सी शरमा  रही है … 
लिए आँखों में इंद्रधनुषी सपने 
अग्रदूत वसंत का --भौंरा 
गीत मिलन के गा रहा है ---

आम्रकुंज से कोयलिया ने 

पी को है पुकारा ----
कहाँ गया मनमौजी मेरा 
किस सौतन ने घेरा ?

टेसू की  डाली पर छाई 

वासन्तिक बहार 
लिए दामन में सपन-सलोने 
आया रंगों का त्यौहार ---

बचपन ,यौवन और बुढ़ापा 

जीवन के हैं रंग 
काम -काम में हो न जाए 
जीवन ये बेरंग ---

ले लो एक विराम 

कर लो हँसी -ठिठोली 
उमंगों के इस उत्सव को 
भूल न जाना हमजोली ----

प्रकृति  की  इस पुकार को 

न करना नजरअंदाज 
मुरली की  मधुर तान पर --राधारानी ---
झूम रही है आज ---

मन बावला फगुआ गाये 

मस्ती छाई रे 
प्रीत की   पक्की रंग लिए फिर 
होली आई रे …। 
                        आप सभी  को होली की  अग्रिम शुभकामनाएं---


17 comments:

  1. होली की बधाई । सुंदर रचना ।

    ReplyDelete
  2. बहुत सुंदर रचना. होली की मंगलकामनाएँ !

    ReplyDelete
  3. बहुत सुंदर प्रस्तुति.
    इस पोस्ट की चर्चा, शनिवार, दिनांक :- 15/03/2014 को "हिम-दीप":चर्चा मंच:चर्चा अंक:1552 पर.

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद राजीव जी .....

      Delete
  4. holi ki shubhkamnaye..........sundar si rachna se aapne man moh liya.........

    ReplyDelete
  5. bahut sunadr prastuti nisha ji .holi parv kee hardik shubhkamnayen

    ReplyDelete
  6. होली के रंग से रंगी रचना ....आप को होली की शुभकामना .....

    ReplyDelete
  7. होली की शुभकामना **********

    ReplyDelete
  8. रंगों से सराबोर होली की शुभकामनायें...

    ReplyDelete
  9. आपको सपरिवार होली की हार्दिक शुभकामनाएँ !

    कल 16/03/2014 को आपकी पोस्ट का लिंक होगा http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
    धन्यवाद !

    ReplyDelete
  10. अतिसुन्दर और सार्थक रचना ..होली की शुभकामनाये
    बचपन ,यौवन और बुढ़ापा
    जीवन के हैं रंग
    काम -काम में हो न जाए
    जीवन ये बेरंग ---

    ले लो एक विराम
    कर लो हँसी -ठिठोली
    उमंगों के इस उत्सव को
    भूल न जाना हमजोली ----

    ReplyDelete
  11. होली का मधुर गीत ,... मन को छूता हुआ ..
    आपको भी होली कि हार्दिक बधाई ....

    ReplyDelete
  12. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...होली की आपको सपरिवार हार्दिक शुभकामनाएं!

    ReplyDelete
  13. वाह . . .
    बधाई एवं मंगलकामनाएं आपको !

    ReplyDelete
  14. बचपन ,यौवन और बुढ़ापा
    जीवन के हैं रंग
    काम -काम में हो न जाए
    जीवन ये बेरंग ---
    बेहद सुन्दर बिम्ब जीवन के प्रकृति के

    ReplyDelete
  15. बहुत ही सुन्दर रचना...
    :-)

    ReplyDelete