Monday, February 4, 2013

.कब तक ?

दिनभर चलते-चलते थककर चूर 
दिनकर प्रियतमा के आगोश में समा रहा है .......
जमीं और आसमां के मिलन का प्रतीक बन ...क्षितिज ...
इन्द्रधनुषी रंग बिखरा रहा है ......

लौट रहें हैं पंछी भी,.......
 कलरव करते  हुए अपने बसेरे की ओर .....

मिलन के अभूतपूर्व आनंद से ....आह्लादित  है ...
प्रकृति का हरेक छोर .....

.भ्रमवश ...पथ भटके हुए पथिक तुम ..कबतक ?????
यूँ ही खुद को भरमाओगे ?
इन्तजार में व्याकुल है ..घर-द्वार तुम्हारा .....तुम ..कब तक ?
घर को लौट आओगे ?

17 comments:

  1. बहुत सुंदर रचना
    क्या कहने

    ReplyDelete
  2. .. .. आपकी रचना को नज़र अंदाज़ करना कैसे भी सरल नहीं .. !

    ReplyDelete
  3. प्रियतम से मिलने की गुहार करती बहुत
    ही सुन्दर दिल को छुलेनेवाली रचना..
    :-)

    ReplyDelete
  4. prem ko samjhne ke liye premras me dubna padta hai nisha ji aur prakriti ke madhyam se aapne bahut hi sundar rachna prastut ki hai

    ReplyDelete
  5. CHALIYE MERA LIKHNA SARTHAK HUA.......THANKS TO ALL...

    ReplyDelete
  6. इन्तजार में व्याकुल है ..घर-द्वार तुम्हारा .....तुम ..कब तक ?
    घर को लौट आओगे ?waah bahut sarthak kehan

    ReplyDelete
  7. शायद अब तक उनकी शाम नहीं हुई ...
    पर सच्चा इन्तेज़ार है तो जरूर आएंगे वो ... बहुत खूब ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. are waah maine aisa to socha hi nahi tha .....thanks....

      Delete
  8. बहुत बढि़या कविता/लेखन हैं- सारिक खान

    http://sarikkhan.blogspot.in/

    ReplyDelete
  9. दिनकर प्रियतमा के आगोश में समा रहा है .......
    जमीं और आसमां के मिलन का प्रतीक बन ...क्षितिज ...
    इन्द्रधनुषी रंग बिखरा रहा है ......

    लौट रहें हैं पंछी भी,.......
    कलरव करते ह्युए अपने बसेरे की ओर .....

    प्रकृति का मानवीकरण बहुत ही सुन्दर दिल को छूती रचना .

    ReplyDelete
  10. दिनकर प्रियतमा के आगोश में समा रहा है ...
    वाह !!

    ReplyDelete
  11. इंतजार और इंतजार ही तो प्रेम है इस से प्रेम की ड़ोर बंधी रहती है
    भड़के हुवे राही को ये इंतजार संकेत देता रहता है
    इस इंतजार को बनाये रखिये
    दिल के हल बयाँ करते शब्द

    ReplyDelete
  12. इन्तजार में व्याकुल है ..घर-द्वार तुम्हारा .....तुम ..कब तक ?
    घर को लौट आओगे ?
    अपनेपन की क्या सुंदर बात

    ReplyDelete

  13. लौट रहें हैं पंछी भी,.......
    कलरव करते ह्युए अपने बसेरे की ओर ....."हुए" कर लें .

    हुए कर लें .बहुत शानदार प्रस्तुति है भाषिक प्रभा लिए अर्थ छटा लिए .

    ReplyDelete
  14. बहुत खूबसूरत भाव लिए कविता |
    आशा

    ReplyDelete

  15. शुक्रिया आपकी टिपण्णी का .मुबारक प्रेम दिवस ,दाम्पत्य प्रेम ,ब्लोगिंग प्रेम .

    ReplyDelete
  16. इन्तजार में व्याकुल है ..घर-द्वार तुम्हारा .....तुम ..कब तक ?
    घर को लौट आओगे ?
    अपनेपन की क्या सुंदर बात

    नई पोस्ट

    रूहानी प्यार का अटूट विश्वास

    ReplyDelete